खबरों का है यही बाजार

पलायन थमेगा तभी मिलेगी संक्रमण से मुक्ति: अभय सिंह

बच्चे हैं अनमोल’ भाग-15

0 131
                    BL NEWS 
               लखनऊ. कोरोनाकाल में जनसंख्या का इतना बड़ा विस्थापन हुआ, जो आज़ादी के बाद कभी देखने को नहीं मिला, जिसके कारण शहरी एवं ग्रामीण संरचनाओं पर जबरदस्त दबाव उत्पन्न हुआ। कोरोना जैसी महामारियां आगे भी देखने को मिल सकती हैं, ऐसे में गांवों में हमें अपनी आय के स्रोतों को बढ़ाना होगा, इसके लिए कृषि विज्ञान केंद्रों की भूमिका अहम है। यदि हम पलायन रोकने में सफल हुए तो कोरोना जैसी महामारियों से लड़ सकेंगे।
उक्त बातें कार्यक्रम अध्यक्ष कृषि विज्ञान केंद्र अम्बरपुर, सीतापुर के अध्यक् अभय सिंह ने मंगलवार को सरस्वती कुंज निरालानगर स्थित प्रो. राजेन्द्र सिंह रज्जू भैया डिजिटल सूचना संवाद केंद्र में आयोजित ‘बच्चे हैं अनमोल’ कार्यक्रम के 15वें अंक में कहीं। इस कार्यक्रम में विद्या भारती के शिक्षक, बच्चे और उनके अभिभावक सहित लाखों लोग आनलाइन जुड़े थे, जिनकी जिज्ञासाओं का समाधान भी किया गया।
कार्यक्रम अध्यक्ष अभय सिंह ने कोरोना की पहली लहर के समय पूरे देश में हुए पलायन को लेकर चिंता व्यक्त की।
उन्होंने कहा कि महामारी के समय पूरे देश में हुए पलायन को देखते हुए केंद्र और राज्य सरकारों ने कृषि विज्ञान केन्द्रों से किसानों की आय दोगुनी करने का दायित्व सौंपा है, जिससे लोग गांव में ही रुकें और कोई न कोई रोजगार शुरू करें।
मुख्य वक्ता आयुर्वेद विशेषज्ञ डॉ. एसपी चौहान ने कहा कि आयुर्वेद में महर्षि कश्यप को शिशु रोग विशेषज्ञ माना गया है। उन्होंने ने ही सुवर्ण-प्राशन कल्प (सीरप) इजाद किया।
विशिष्ट वक्ता वरिष्ठ आईएएस विशेष सचिव नगर विकास डॉ इंद्रमणि त्रिपाठी ने कहा कि कोरोना काल ने हमारी भौतिकतावादी सोच को बदला और आवश्यकतानुरूप जीना सिखाया.
कार्यक्रम का संचालन विद्या भारती पूर्वी उत्तर प्रदेश के प्रचार प्रमुख सौरभ मिश्रा ने किया। इस कार्यक्रम में विद्या भारती पूर्वी उत्तर प्रदेश के बालिका शिक्षा प्रमुख उमाशंकर मिश्रा , सह प्रचार प्रमुख भास्कर दूबे, शुभम सिंह सहित कई पदाधिकारी और कर्मचारी मौजूद रहे।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More