खबरों का है यही बाजार

मुकेश जैसे गायक दिलों में जगह बनाते हैं : सै. मासूम रज़ा

0 74
                        BL NEWS 
      लखनऊ. मुकेश जैसे लोग मरते नहीं बल्कि दिलों में जगह बनाते हैं। सल्तनत मंजिल, हामिद रोड, निकट सिटी स्टेशन, लखनऊ के रहने वाले रॉयल फैमिली के नवाबजादा सैयद मासूम रज़ा, एडवोकेट ने कहा कि गायक मुकेश ने अपनी आवाज से न हिंदुस्तानी श्रोताओं पर बल्कि पूरे विश्व में संगीत के चाहने वाले का दिल जीता था। इनका शुमार बेहतरीन गायकों में होता था।
इस साल उनकी 98 सालगिराह मनाई गई। मासूम रज़ा ने कहा कि इनकी दर्द भरी सुरीली आवाज के सभी दीवाने थें। उनका गया हुआ गीत आवारा हूं….और मेरा जूता है जापानी… पूरी दुनिया में बेहद मकबूल हुआ था। उन्हें रजनीगंधा (1974) के गीत ” कई बार यूं ही देखा है… के लिए नेशनल फिल्म अवार्ड मिला था। उन्हें पांच फिल्मफेयर अवार्ड भी मिलें थें। इन्होंने अपनी अनोखी शैली में गजल और भजन भी गाया है। मुकेश 22 जुलाई 1923 में पैदा हुए थें। अमेरिका में एक कॉसर्ट के दौरान दिल का दौरा पड़ने से उनकी मौत हो गई थी। 27 अगस्त 1976 को इस दुनिया को हमेशा के लिए उन्होंने अलविदा कह दिया।

इंजीनियर हया फातिमा नवाबजादा सैय्यद मासूम रज़ा, एडवोकेट के पास भारतीय डाक विभाग द्वारा 15 मई 2003 में जारी “अतीत के सुनहले स्वर” नाम से फर्स्ट डे कवर और चार डाक टिकटों का सेट जारी हुआ था यह टिकट व कवर मोहर लगी हुई कलेक्शन में मौजूद है, जो उनके कलेक्शन की शोभा बढ़ा रहा है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More