खबरों का है यही बाजार

न्याय के संघर्ष में भारत तिब्बत के साथ : बी आर कौंडल

भारत-तिब्बत समन्वय संघ द्वारा अंतरराष्ट्रीय न्याय दिवस पर आयोजित वेबिनार सम्पन्न

0 302

 


                     BL NEWS 
लखनऊ । न्याय के संघर्ष में भारत सदैव तिब्बत के साथ खडा है। तिब्बत की आजादी केवल तिब्बत ही नहीं, बल्कि भारत की सुरक्षा के लिए भी महत्वपूर्ण है। यह बात तिब्बती मामलो के विशेषज्ञ बी आर कौंडल ने कही।
कौंडल भारत-तिब्बत समन्वय संघ द्वारा अंतरराष्ट्रीय न्याय दिवस पर तिब्बत के लिए न्याय विषयक वेबिनार में बोल रहे थे। देश-विदेश के 140 स्थानों से 232 लोगों की उपस्थिति में आयोजित इस वेबिनार में
कौंडल ने कहा कि भारत की तत्कालीन सरकार ने चीन को जो वीटो पावर दिलवाने सहयोग किया वो आज हमारे लिए महिषासुर बन चुका है। तिब्बत को जेन्युन ऑटोनोमी का वादा किया गया था लेकिन वो वादा आज तक पूरा नहीं हुआ है.

इस अवसर पर उत्तर प्रदेश लोक सेवा अधिकरण के अध्यक्ष जस्टिस सुधीर कुमार सक्सेना ने कहा कि चीन तिब्बत के संसाधनों पर अनधिकृत कब्जा करके वहां के संसाधनों का भी शोषण कर रहा है। तिब्बत की बौद्ध संस्कृति पर प्रहार किया है जिससे हम भारत के समस्त सनातनी भी अत्यंत आहत अनुभव कर रहे हैं।
प्रज्ञा प्रवाह के क्षेत्रीय प्रभारी व संघ प्रचारक रामाशीष जी ने कहा कि लाल सेना की लद्दाख में की गई हिंसा कभी बिसराई नहीं जा सकती है.

इस अवसर पर तिब्बतियन सुप्रीम जस्टिस कमीशन की पूर्व ज्यूरी व वरिष्ठ अधिवक्ता श्रीमती नामग्याल सेकी ने कहा कि तिब्बत जिसे दुनिया की छत कहा जाता है, वह पूरी दुनिया से 1959 से राहत की उम्मीद लगा रहा है।
अधिवक्ता परिषद के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष व भारत-सरकार के एडीशनल सॉलिसिटर जनरल शशि प्रकाश सिंह ने कहा कि चीन ने तिब्बत के लोगों पर छोटी छोटी घटनाओं को लेकर अत्याचार किया है,यही अत्याचार अभी भी बदस्तूर जारी है.

अधिवक्ता परिषद के उत्तर प्रदेश के कार्यकारी महामन्त्री अश्वनी कुमार त्रिपाठी नेअपने उद्बोधन में आत्मनिर्णय को तिब्बतियों का अधिकार बताते हुए कहा कि हमें तिब्बत के लोगों के इस संघर्ष में सहयोगी बनकर तिब्बत के लिए इंटरनेशनल कोर्ट में जाना होगा।
वेबिनार का संचालन भारत तिब्बत समन्वय संघ के विधि विभाग के राष्ट्रीय संयोजक अनीश श्रीवास्तव एडवोकेट ने किया और धन्यवाद ज्ञापन राष्ट्रीय महामंत्री विजय मान ने किया।
p
आज के आयोजन में केंद्रीय संयोजक हेमेंद्र तोमर, राष्ट्रीय महामंत्री अरविंद केसरी, अंतरराष्ट्रीय प्रभाग के राष्ट्रीय संयोजक डॉ अमरीक सिंह ठाकुर, राष्ट्रीय कोषाध्यक्ष अजीत अग्रवाल, अखिलेश पाठक और मनोज गहतड़ी का विशेष सहयोग रहा.

 

Leave A Reply

Your email address will not be published.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More