खबरों का है यही बाजार

प्रदेश में उपखनिजों का किया गया पर्याप्त भण्डारण: डाॅ. रोशन जैकब

0 82
                    BL  NEWS
                   लखनऊ.सचिव,निदेशक, भूतत्व एवं खनिकर्म विभाग उ.प्र., डाॅ. रोशन जैकब ने बताया कि वैश्विक महामारी कोविड-19 की दूसरी लहर से प्रदेश प्रभावित होने के कारण माह अप्रैल व मई, 2021 में समस्त गतिविधियाँ स्थिर हो गयी थी, इससे प्रदेश का खनन सेक्टर भी प्रभावित हुआ है।
डा. जैकब ने बताया माननीय मुख्यमन्त्री के निर्देश पर खनन उद्योग को प्रोत्साहित किये जाने एवं मानसून सत्र माह जुलाई, अगस्त एवं सितम्बर में खनिजों की पर्याप्त उपलब्धता बनाये रखे जाने हेतु माह मई की देय किश्तों में शिथिलता प्रदान करते हुए खनन क्षेत्रों से निकाले गये खनिजों की मात्रा के आधार पर देय राजस्व जमा किये जाने की व्यवस्था की गयी, परिणामस्वरूप प्रदेश में विगत वर्ष माह जून तक बालू/मौरम का भण्डारण 39,19,404 घन मी0 हुआ था, जबकि इस वित्तीय वर्ष में दिनॉक 23 जून, 2021 तक कुल 61,44,847 घन मी० बालू/मौरम का भण्डारण किया गया है।
वर्तमान वित्तीय वर्ष 2021-22 में मानसून सत्र के पूर्व जनपद झॉसी, हमीरपुर, जालौन, फतेहपुर, बॉदा, कानपुरदेहात, कानपुरनगर एवं कौशाम्बी जनपदों में 47,59,194 घन मी. मौरम का भण्डारण किया गया है।
भण्डारण परिहारधारकों को पूर्व में ही ऐसे निर्देश हैं कि भण्डारित किये गये उपखनिज मानसून अवधि की समाप्ति तक 90 प्रतिशत तक स्टाफ खत्म करना होता है। डा. जैकब ने बताया कि मुख्यमन्त्री के निर्देश पर जिलाधिकारियों को इस आशय के निर्देश दिये गये हैं कि भण्डारण स्थलों पर भण्डारणकर्ता का नाम, भण्डारित स्थल का पूर्ण विवरण, भण्डारण स्थल पर उपखनिज की भण्डारित मात्रा तथा विक्रय मूल्य दर्शाते हुये साइनबोर्ड, सीसीटीवी कैमरे लगवाये जांय। यह भी निर्देश दिये गये हैं कि स्वीकृत क्षेत्र का चिन्हांकन कर चैहद्दी निर्धारित करते हुये सीमा स्तम्भ लगाने तथा भण्डारण स्थल की जियोटैगिंग कर माइन-मित्र पोटल से जोड़ा जाय, ताकि अवैध भण्डारण को सुगमता से चिन्हित किया जा सके।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More