खबरों का है यही बाजार

जिहादियों की सम्पत्ति जब्त होने लगी तो यू पी शान्त हो गया

0 154
             डा. विनोद अग्रवाल
              आज देश की सभी विपक्षी पार्टियां चुनावी लाभ के लिए या यूं कहिए सत्ता हथियाने की कोशिशों में जिहादियों, रोहिंग्या मुसलमानों, बंग्लादेशी घुसपैठियों के समर्थन में बेझिझक देशविरोधी घोषणाएं करती जा रही हैं।
उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री ने दंगाइयों के खिलाफ जहां सख्ती शुरू की , दंगाइयों की दुकाने सील होने लगी, जिहादिओ की संपत्तिया जब्त होने लगी उत्तर प्रदेश पूरी तरह शान्त हो गया,दंगे रुक गये।
अपने देश में रहने वाले कुछ पाकिस्तानी समर्थक ,देश के एक पूर्व उपराष्ट्रपति , कुछ बालीवुड के चर्चित ऐक्टर कहने लगे भारत में मुसलमान सुरक्षित नहीं ,इसका तात्पर्य यह है कि पाकिस्तान में मुस्लिम ज्यादा सुरक्षित है यदि ऐसा है तो उन्हें पाकिस्तान चले जाना चाहिए परन्तु भारत में रहकर पाकिस्तान *ज़िन्दाबाद के नारे लगाने वाले पाकिस्तान जाने के नाम पर बिदक जाते हैं , अगर पाकिस्तान *इतना ही बुरा है तो फिर उसके पक्ष में नारे नहीं लगाना चाहिए।यह देशद्रोह नहीं तो और क्या है।
अयोध्या में राममंदिर का जो मामला 40 दिनों मे हल‌ हो सकता था उसे कांग्रेस ने केवल मुसलमानों को खुश रखने के लिए 70 साल तक लटकाए रखा।
धारा 370 का जो मामला दो महीने के अंदर हल हो सकता था उस धारा को 70 साल तक कांग्रेस ने जीवित रखा।आज लगभग पांच करोड़ बांगलादेशी तथा रोहिंग्या मुसलमान पूर्व के सरकारों की मुस्लिम तुष्टिकरण की ग़लत नीतियों के सहारे अपने देशवासियों की सम्पदा , देशवासियों के धन, युवाओं के रोजगार पर कब्जा जमाये बैठे हैं।
नागरिकता के जो पहचानपत्र मात्र 6 महीने के अंदर घुसपैठियों की पहचान करा कर उन्हें देश से बाहर कर सकते थे,ऐसे कानून को 35 साल लागू नही किया गया।
अपने देश के देशद्रोहियों को देखो ,भारत और अमेरिका के विपक्ष के बीच का अंतर देखो – अमेरिका ने 48 घण्टो में 2 एयर स्ट्राइक कर दिया मगर — वहां के विपक्ष और मीडिया किसी ने सबूत नहीँ मांगे.. लेकिन भारत का गद्दार विपक्ष अपने मुस्लिम वोटरों को खुश करने के चक्कर में देश से गद्दारी करते हुए, भारतीय सेना द्वारा पाकिस्तान के घर में घुसकर स्ट्राइक का , भारतीय सेना से बार-बार सबूत मांगते हैं।
असलम शेख कांग्रेसी विद्यायक , आतंकी याकूब मेमन की फाँसी पर दया याचिका मांगने वाले को उद्धव सरकार ने अपने कैबिनेट में मंत्री पद की शपथ दिलाकर आतंकियों का हौसला बढ़ाया है। भारतीय नागरिकता क्या होती है ये 72 साल बाद मोदी युग में ही देशवासियों को पता चला, पहले लोग अमेरिकी नागरिकता के लिये तरसते थे।
कांग्रेस प्रवक्ता पवन खेड़ा ने राष्ट्र वादियों को मुंह चिढ़ाते हुए घोषणा की है कि सत्ता में आने पर मुस्लिम घुसपैठियों को भी नागरिकता देगी । सत्ता तक पहुंचने के लिए कांग्रेस किसी भी हद तक जाकर भी देश और देशवासियों के हितों से सौदा करने की मानसिकता रखने वाली पार्टी है जो न देश के लिए हितकर है और न ही बहुसंख्यक हिन्दुओं के लिए।अब अपने मुस्लिम एजेंडे पर कांग्रेस खुलकर मैदान में आ गयी हो।
अपने ही देश में हिन्दुत्व विरोधी ओवैसी ने मोदी सरकार को सीधी धमकी दी है कि अगर 26 जनवरी तक CAB वापस ना लिया तो उसके बाद जो होगा उसकी जिम्मेदारी भारत सरकार की होगी।यह चुनौती केवल मोदी सरकार के लिए नहीं बल्कि देश के सभी नागरिकों के अस्मिता के लिए है।
इन विरोधियों का विरोध बता रहा है कि नागरिकता कानून कितना जरूरी था और विरोध का तरीका बता रहा कि इसके बाद
एनआरसी कितना जरूरी है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More