खबरों का है यही बाजार

हर जिले में प्लाज्मा बैंक की तैयारी में परिषद:इं. हरि किशोर

0 91

परिषद तैयार कर रही सम्भावित प्लाज़्मा डोनर  डायरेक्ट्री      

            BL News

लखनऊ । राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद के अध्यक्ष इं. हरिकिशोर तिवारी ने प्रदेश के समस्त सम्बंध संगठनों एवं परिषद के जिलाध्यक्ष, मंत्रियों को एक पत्र जारी कर जनपद में कोरोना संक्रमण का शिहर जिले में प्लाज्मा बैंक की तैयारी में परिषद:इं. हरि हर जिले में प्लाज्मा बैंक की तैयारी में परिषद:इं. हरि किशोर किशोर कार होकर रिकवर हुए कार्मिकों की सम्पूर्ण जानकारी केन्द्रीय कार्यालय प्रेषित करने के निर्देश दिए है।
उन्होंने कहा कि जिस तरह से विशेषज्ञ तीसरी लहर आने का दावा कर रहे है और दूसरी लहर के दौरान संक्रमित हुए कार्मिकों और शिक्षकों को संसाधनों के अभाव में भारी दिक्कतो के साथ हजार की संख्यामें कर्मचारी और शिक्षकों को जान गॅवानी पड़ी है ऐसी स्थिति से निपटने के लिए अगर वास्तव में तीसरी लहर आई तो उक्त संकलित जानकारी से बनी डायरेक्ट्री कर्मचारी शिक्षक और उनके परिजनों के लिए बहुत लाभदायक साबित होगी।
परिषद के अध्यक्ष हरि किशोर तिवारी ने समस्त पदाधिकारियों को लिखे पत्र में कहा है कि कोरोना महामारी के तहत हम कर्मचारियों के भी सगे संबंधी और परिवारिक जन् काफी संख्या में कोरोना ग्रस्त हो चुके हैं 1000 से अधिक संख्या में मौतें भी हुई है।    जो बचे हैं उनमें संभावना बाकी है उनकी भी ड्यूटी चुनाव के बाद अब कोरोना रोकथाम में लगाई गई है। विशेषज्ञों के अनुसार तीसरी लहर आने तक बहुत ही स्थितियां गंभीर होंगी। इसमें एक बात बार-बार मेडिकल साइंस की तरफ से बताई जा रही है कि जिन्हें करोना हो चुका है उनका प्लाज्मा देने से गंभीर रोगी को राहत मिल सकती है। ऐसी स्थिति में अगर हर जनपद में एक प्लाजा बैंक स्थापित होगा तो हजारों जाने बच सकती है। ऐसे उन सहयोगी सदस्यों,कार्मिकों और उनके पारिवारिक जनों का कोरोना पॉजिटिव कार्ड की फोटो कॉपी और उनके ब्लड ग्रुप की एक लिस्ट बनाकर रखने तथा उसकी एक कापी केन्द्रीय कार्यालय को भेजने के निर्देश दिए है ताकि एक डिजीटल डारेक्ट्री बना ली जाए और सभी को सुलभ करा दी जाए। 
तिवारी ने बताया कि भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) ने रक्त प्लाज्मा थैरेपी से कोविड-19 संक्रमित मरीजों के उपचार के ट्रायल की अनुमति दे चुकी है।
उन्होंने यह भी बताया कि एम्स के मेडिसिन विभाग के प्रोफेसर डॉक्टर नवल विक्रम के मुताबिक यह उपचार प्रणाली इस धारणा पर काम करती है कि वे मरीज जो किसी संक्रमण से उबर जाते हैं उनके शरीर में संक्रमण को बेअसर करने वाले प्रतिरोधी एंटीबॉडीज विकसित हो जाते हैं। इसके बाद नए मरीजों के खून में पुराने ठीक हो चुके मरीज का खून डालकर इन एंटीबॉडीज के जरिए नए मरीज के शरीर में मौजूद वायरस को खत्म किया जाता है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More