खबरों का है यही बाजार

संकट के समय व्यवस्था के बजाय संवेदनहीनता की सीमाएं लांघ रही सरकार:लल्लू

0 135
B L NEWS
  1. लखनऊ । उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटीसंकट के समय व्यवस्था के बजाय संवेदनहीनता की सीमाएं लांघ रही सरकार:लल्लू के अध्यक्ष  अजय कुमार लल्लू ने भाजपा सरकार पर झूठ बोलने व जनता कोसंकट के समय व्यवस्था के बजाय संवेदनहीनता की सीमाएं लांघ रही संकट के समय व्यवस्था के बजाय संवेदनहीनता की सीमाएं लांघ रही सरकार:लल्लूसरकार:लल्लू धमसंकट के समय व्यवस्था के बजाय संवेदनहीनता की सीमाएं लांघ रही सरकार:लल्लूसंकट के समय व्यवस्था के बजाय संवेदनहीनता की सीमाएं लांघ रही सरकार:लल्लूकाने का आरोप लगाया है.उन्होंने कहा है कि कोरोना की दूसरी लहर के भीषणतम संकटकाल में राज्य भाजपा की योगी आदित्यनाथ सरकार महामारी की विकरालता और जनमानस की समस्याओं को दरकिनार करते हुए सच का सामना करने के स्थान पर झूठ, भ्रम की राजनीति द्वारा संवेदनहीनता का परिचय दे रही है। एक वर्ष तक टीम इलेवन का ढिंढोरा पीटने वाली सरकार की मौजूदा समय मे टीम नाइन का एक नया शिगूफा छोड़ रही है। बेडो, ऑक्सीजन, वेंटिलेटर, आईसीयू, नेबूलाइजर, बायपिक मशीनों की व्यवस्था करने में पूरी तरह असमर्थ योगी सरकार इस संकटकाल मे सक्रिय भूमिका निभाने के बजाय आपदा के संकटकाल में आमजनमानस को धमकाने डराने का कार्य कर रही है,जिससे स्थितियां लगातार बिगड़ रही हैं। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि रेफरल पर्ची के नाम पर जटिल प्रक्रिया से मरीजों व परिवार जनों का उत्पीड़न किया जा रहा है। राज्य में बेडो की पर्याप्त व्यवस्था व जांच केंद्र का दावा करने वाली सरकार के मुखिया व उनकी जिम्मेदार टीम यह बताये की केजीएमयू को कोविड फेसिलिटी हॉस्पिटल बनाने की घोषणा के बाद उसके 4500 सौ बेडो में मात्र 765 बेडों पर कोरोना पेशेंट है बाकी बेडो्र पर कोरोना पेशेंट क्यों नही भर्ती किये जा रहे हैं? अगर सब कुछ सही है तो केजीएमयू के होल्डिंग एरिया के बाहर कोरोना पेशेंट क्यों अपनी निजी ऑक्सीजन व्यवस्था के साथ मौत से संघर्ष करने को विवश हो रहे हैं? अजय कुमार लल्लू ने कहा कि पूर्व की तमाम चेतावनी के बाद भी सरकार दूसरी लहर को जहर बनने से रोकने की रणनीति बनाने के बजाय वह जनविरोधी रणनीति पर काम करती रही। योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व में पूरे तंत्र को जंग लग गयी यह सबके सामने स्प्ष्ट हो चुका है। संकट की घड़ी में मुख्यमंत्री अपनी टीम के साथ बैठकों में पूरी तरह फर्जी बयानबाजी की व्यवस्था कर झूठ को सच बताने की कोशिश कर रहे है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More