खबरों का है यही बाजार

कोविड से हो रही मौतों को छिपाने का प्रयास कर रही है सरकार: अजय कुमार

0 191
  • उप्र के हालात भयावह, प्रदेश की हालत अंधेर नगरी चौपट राजा जैसी
    B L NEWS
  • लखनऊ । उ.प्र. कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने आज प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय में कोरोना प्रोटोकाल का पालन करते हुए आयोजित प्रेस वार्ता में कहा कि मुख्यमंत्री बार-बार कह रहे हैं कि आक्सीजन, बेड, वेंटीलेटर, रेमडेसिविर इंजेक्शन की कमी नहीं है तो मुख्यमंत्री को मैं खुली चुनौती देता हूं कि वो एक व्यक्तिगत नम्बर जारी करें जो टीवी और मीडिया में प्रसारित, प्रकाशित हो और जो उनके ट्विटर हैंडिल से ट्वीट हो तथा जो अधिकारी उनको यह बता रहे हैं कि कमी नहीं है उनका एक नम्बर जारी करें ताकि स्थिति पूरी तरह स्पष्ट हो सके कि उ.प्र.के हालात कितने भयावह हैं। मुख्यमंत्री जी झूठ बोलना बंद करें। विपक्ष के साथ ही लोगों को धोखा देना बंद करें।
  • अजय कुमार लल्लू ने कहा कि एसटीएफ ने खुलासा किया है कि रेमडेसिविर इंजेक्क्शन दस गुने से अधिक दाम पर बिक रहे है।
    प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि निजी अस्पतालों में अभी भी सीधी भर्ती नहीं। अभी भी सीएमओ का रेफरल लेटर चाहिए। वीआईपी की सीधी भर्ती! गरीब के लिए नहीं?
    प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि एक सरकारी आंकड़ें जो दिए जा रहे हैं जिसमें कल लखनऊ में 13 लोगों की मौत, गाजियाबाद में 6 लोगों की मौत दिखाया गया है। रोज लगभग 200 मौतों का दावा कर रहे हैं। जबकि गाजियाबाद में श्मशान घाट पर बोर्ड लगा दिया गया कि जगह नहीं है। लखनऊ में सैंकड़ों मौतें हो रही हैं। भैंसाकुण्ड, गुलालाघाट सहित तमाम अन्य जगहों पर दाह संस्कार हो रहे हैं।
    उन्होने कहा कि तीन विधायकों की मौत हो चुकी है जिसमें विधायकों ने डा.हर्षवर्धन और मुख्यमंत्री केा स्वतः पत्र लिखकर यह कहा कि हमारे इलाज की व्यवस्था हो। उनके परिवार का आरोप है कि 5 कालीदास मार्ग पर अधिकारियों को फोन करते रहे, किसी ने जवाब नहीं दिया। मोहनलालगंज के सांसद के भाई की मृत्यु हो गयी। सुप्रीमकेार्ट और हाईकोर्ट लगातार सरकार के तानाशाही रवैये पर तल्ख टिप्पणी कर चुकी है। फिर भी सरकार- मेरा कायदा, वरना कोई कायदा नहीं, पर अड़ी हुई है।
    अजय कुमार लल्लू ने कहा कि मुख्यमंत्री ने सदन में यह दावा किया था कि हम डेढ़ लाख बेड बनाकर रखे हैं। कहां गये वह दावे?
    हमारे नेता राहुल गांधी ने बार-बार सरकार से आग्रह किया। सरकार ने तनिक ध्यान दिया होता तो आज यह स्थिति न होती। तमाम आईएएस अधिकारी मर गये। वरिष्ठ आईएएस श्री दीपक त्रिवेदी की मौत हो गयी, इसका जिम्मेदार कौन है? इलाज के अभाव में तमाम लोग मर गये। आप कहते हैं कि विपक्ष राजनीति कर रहा है। पहली बार जब यह कोरोना आया था उस समय तो आपदा थी। इस आपदा में विशेषज्ञों के कहने के बाद भी आप द्वारा कोई कार्यवाहीं नहीं की गयी। न अस्पताल, न बेड, न आक्सीजन, न दवाई, न वेंटीलेटर की कोई व्यवस्था की। जिसका नतीजा है कि आज की स्थिति देखने को मिल रही है जिसकी जिम्मेदार आपकी सरकार है।
    अजय कुमार लल्लू ने कहा कि गांव-गांव में सभी जनपदों में महामारी तेजी के साथ फैल चुकी है। कहीं भी आरटी-पीसीआर जांच की कोई व्यवस्था नहीं है।
    प्रेसवार्ता में कांग्रेस विधान परिषद दल के नेता दीपक सिंह ने कहा कि सीएमओ लखनऊ के सीयूजी फोन नम्बर पर अपने फोन से मिलाया जिसका कोई जवाब नहीं मिला। उन्होने कहा कि सरकार में दो मंत्री, चार विधायक, सैंकड़ों की संख्या में पत्रकार, डाक्टर, साहित्यकार, आईएएस, स्वास्थ्यकर्मी एवं पुलिसकर्मी सहित हजारों प्रदेशवासियों की कोरोना से दुःखद मौत हो चुकी है। लाखों की संख्या में लोग आक्सीजन, बेड और दवाई के लिए तड़प रहे हैं।
    प्रेसवार्ता में अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के सचिव एवं सहप्रभारी उ.प्र. प्रदीप नरवाल, उ.प्र. कांग्रेस कमेटी के महामंत्री शिव पाण्डेय, अशोक सिंह, ललन कुमार मौजूद रहे।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More