खबरों का है यही बाजार

प्रियंका गांधी के काफिले को जगह-जगह रोकने की कोशिश भाजपा का किसान विरोधी चेहरा: कांग्रेस

लखीमपुर में किसानों एवं पत्रकार की अंतिम अरदास सभा में पहुंची प्रियंका गांधी

0 76
                     BL NEWS
                लखनऊ। कांग्रेस महासचिव प्रभारी उत्तर प्रदेश श्रीमती प्रियंका गांधी, लखीमपुर किसान नरसंहार में शहीद हुए किसानों और पत्रकार रमन कश्यप की अंतिम अरदास प्रार्थना सभा में शामिल हुईं और अरदास सभा में गुरु ग्रँथ साहिब जी के सामने मत्था टेका ,और शहीद किसानों नछत्तर सिंह,लवप्रीत सिंह, गुरविंदर सिंह व दलजीत सिंह और पत्रकार रमन कश्यप की आत्मा की शांति के लिए प्रार्थना की

श्रीमती प्रियंका गांधी शहीद हुए किसानों के परिवारों से मिली और उनसे बात करते-करते भावुक हो गईं,उन्होंने एक बार फिर पीड़ित परिवारों को न्याय दिलाने का भरोसा दिलाया
घायल किसानों ने श्रीमती प्रियंका गांधी से मिलकर धन्यवाद दिया कि प्रियंका दीदी आप हमारे संघर्ष में साथ खड़ी हुईं । घायल किसानों में प्रमुख रूप से बैरिया निवासी जनपद लखीमपुर बलजिंदर सिंह पुत्र जीत सिंह और अन्य किसान शामिल रहे
प्रवक्ता अंशू अवस्थी ने बताया कि श्रीमती प्रियंका गांधी जी से पत्रकारों के सवाल करने पर उन्होंने कहा कि आज मैं अंतिम अरदास की सभा में आई हूं इसलिए कुछ बोलूंगी नहीं हां यह जरूर है की अंतिम सांस तक किसानों की न्याय की लड़ाई लड़ूंगी
डिजिटल मीडिया इंचार्ज अंशु अवस्थी ने बताया कि श्रीमती प्रियंका गांधी जी का काफिला सुबह 8:00 बजे लखनऊ एयरपोर्ट से लखीमपुर के लिए निकला था जिसमें भाजपा सरकार के इशारे पर पुलिस प्रशासन ने तानाशाही कर कांग्रेस के नेताओं और कार्यकर्ताओं की गाड़ियों को जगह-जगह रोक लिया गया उन्हें जाने नहीं दिया गया, श्रीमती प्रियंका गांधी जी के काफिले को लखीमपुर में तयरूट से डायवर्ट कर भटकाने की कोशिश की गई,
भाजपा सरकार ने पूरी कोशिश की कि श्रीमती प्रियंका गांधी जी शहीद किसानों की अरदास सभा मे न पहुंच पाए , लेकिन श्रीमती प्रियंका गांधी जी की किसानों के प्रति करुणा और मजबूत इच्छाशक्ति के चलते वह वहां पहुंची और पहुंचकर किसानों को श्रद्धांजलि सभा में श्रद्धांजलि दी वहां
साथ में प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ज
मौजूद रहे।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More