खबरों का है यही बाजार

सड़क पर उतरेंगे उत्तर प्रदेश पंचायतीराज सफाई कर्मी

0 108
                      BL NEWS
                      लखनऊ। उत्तर प्रदेश पंचायतीराज सफाई कर्मचारी संघ के प्रदेश अध्यक्ष राजकुमार कनौजिया ने प्रदेश पदाधिकारियों की बैठक बुलाई है। अगले सप्ताह होने वाली इस बैठक में लम्बे समय से लम्बित ग्रामीण सफाई कार्मिकों की समस्याओं और सफाई कार्मियों को साप्तहिक अवकाश के सम्बंध में सरकार/शासन को दिये गए पत्राचार के बावजूद अनदेखी से उपजे रूख को देखते हुए आन्दोलन कार्यक्रम घोषित किया जाएगा। सफाईकर्मियों ने विभिन्न समस्याओं न होने की स्थिति में अक्टूबर के अंतिम सप्ताह से जनपदीय और फिर राजधानी में सत्याग्रह शुरू कर दिया जाएगा।
प्रदेश अध्यक्ष राजकुमार कनौजिया ने कहा  कि वह कई बार सफाईकर्मियों की समस्याओं के समाधान की मांग कर चुके हैं, कितु कोई सुनवाई नहीं की गई। सफाईकर्मियों के एरियर और इंक्रीमेंट रुके हुए हैं।  एरियर और डीए का भुगतान कराए जाने, एसीपी से वंचित कर्मचारियों को एसीपी का लाभ दिलाने, पैरोल पर सचिवों के हस्ताक्षर की बाध्यता समाप्त कराए जाने, जरूरत के मुताबिक सफाई उपकरण उपलब्ध कराने समेत कई अन्य समस्याओं के समाधान कराए जाने की मांग लम्बित है।उन्होंने बताया कि कोविड महामारी के दौरान सफाई कर्मियों ने जान हथेली पर रखकर काम किया। इस दौरान कई साथियों की मौत भी हो गई। इन हालातों में काम करने के बावजूद पदोन्नति का निर्णय न होने से कर्मियों में आक्रोश बढ़ता जा रहा है।सफाई कर्मियों को 10 वर्ष की सेवा पूरी होने पर पहला सुनिश्चित कॅरियर प्रोन्नयन (एसीपी) मिलना चाहिए।लेकिन, नियुक्ति के 13 वर्ष बीतने वाले हैं अमेठी, सीतापुर, श्रावस्ती, बहराइच, बलरामपुर, चित्रकूट, महोबा, हमीरपुर, देवरिया व अयोध्या आदि जिलों में कर्मियों को एसीपी का लाभ नहीं मिला है। जिन जिलों ने 12 वर्ष सेवा पूरी होने पर एसीपी दी, वहां दो वर्ष के एरियर का भुगतान नहीं किया जा रहा है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More